भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

13 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:19, 29 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वारिस शाह |अनुवादक= |संग्रह=हीर / व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिंडा छांट के आरसी नाल देखन तिनां ढंग केहा हल वाहुना ई
पिंडा पाल[1] के चोपड़े पटे जिहना किसे रन्न की उहनां नूं चाहुना ई
जिहड़ा भूई दे मामले करे मुंडा एस तोड़ ना मूल निबाहुना ई
दिहें वंझली वाहे ते रात गावे किसे रोज दा ऐह प्राहुना ई

शब्दार्थ
  1. शौकीन