भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"23 मार्च / पाश" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
उसकी शहादत के बाद बाकी लोग <br />
+
{{KKGlobal}}
किसी दृश्य की तरह बचे <br />
+
{{KKRachna
ताज़ा मुंदी पलकें देश में सिमटती जा रही झांकी की <br />
+
|रचनाकार=पाश
देश सारा बच रहा बाकी <br />
+
|संग्रह=
उसके चले जाने के बाद <br />
+
}}
उसकी शहादत के बाद <br />
+
[[Category:पंजाबी भाषा]]
अपने भीतर खुलती खिडकी में <br />
+
{{KKCatKavita}}
लोगों की आवाजें जम गयीं <br />
+
<poem>
उसकी शहादत के बाद<br />
+
उसकी शहादत के बाद बाक़ी लोग  
देश की सबसे बड़ी पार्टी के लोगों ने<br />
+
किसी दृश्य की तरह बचे  
अपने चेहरे से आंसू नहीं , नाक पोंछी <br />
+
ताज़ा मुंदी पलकें देश में सिमटती जा रही झाँकी की  
गला साफ़ कर बोलने की<br />
+
देश सारा बच रहा बाक़ी
बोलते ही जाने की मशक की <br />
+
उससे सम्बंधित अपनी उस शहादत के बाद<br />
+
उसके चले जाने के बाद  
लोगों के घरों में, उनके तकियों में छिपे हुए<br />
+
उसकी शहादत के बाद  
कपड़े की महक की तरह बिखर गया<br />
+
अपने भीतर खुलती खिडकी में  
शहीद होने की घड़ी में वह अकेला था ईश्वर की तरह<br />
+
लोगों की आवाज़ें जम गयीं  
लेकिन ईश्वर की तरह वह निस्तेज न था.
+
 
 +
उसकी शहादत के बाद
 +
देश की सबसे बड़ी पार्टी के लोगों ने  
 +
अपने चेहरे से आँसू नहीं, नाक पोंछी  
 +
गला साफ़ कर बोलने की  
 +
बोलते ही जाने की मशक की  
 +
 
 +
उससे सम्बन्धित अपनी उस शहादत के बाद  
 +
लोगों के घरों में, उनके तकियों में छिपे हुए
 +
कपड़े की महक की तरह बिखर गया  
 +
 
 +
शहीद होने की घड़ी में वह अकेला था ईश्वर की तरह
 +
लेकिन ईश्वर की तरह वह निस्तेज न था
 +
</poem>

23:55, 23 मार्च 2011 के समय का अवतरण

उसकी शहादत के बाद बाक़ी लोग
किसी दृश्य की तरह बचे
ताज़ा मुंदी पलकें देश में सिमटती जा रही झाँकी की
देश सारा बच रहा बाक़ी
 
उसके चले जाने के बाद
उसकी शहादत के बाद
अपने भीतर खुलती खिडकी में
लोगों की आवाज़ें जम गयीं

उसकी शहादत के बाद
देश की सबसे बड़ी पार्टी के लोगों ने
अपने चेहरे से आँसू नहीं, नाक पोंछी
गला साफ़ कर बोलने की
बोलते ही जाने की मशक की

उससे सम्बन्धित अपनी उस शहादत के बाद
लोगों के घरों में, उनके तकियों में छिपे हुए
कपड़े की महक की तरह बिखर गया

शहीद होने की घड़ी में वह अकेला था ईश्वर की तरह
लेकिन ईश्वर की तरह वह निस्तेज न था