Last modified on 3 अप्रैल 2017, at 17:22

243 / हीर / वारिस शाह

एह जग मुकाम फनाह[1] दा ए सभा रेत दी कंध एह जीवना ई
छां बदलां दी उमर बंदयां दी अजराईल[2] ने पाड़ना सीवना ई
एह जहान हैगा एथे सेहर मेला किसे नित ना हुकम ते थीवना ई
वारस शाह मियां अंत खाक होना लख आबेहयात[3] जे पीवना ई

शब्दार्थ
  1. शौकीन
  2. यमदूत
  3. अमृत