भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

81 से 90 तक / तुलसीदास / पृष्ठ 1

Kavita Kosh से
Dr. ashok shukla (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:40, 17 जून 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



पद संख्या 81 तथा 82

(81),
 
दीनबंधु, सुखसिंधु, कृपाकर,
कारूनीक रघुराई।
सुनहु नाथ! मन जरत त्रिबिधि जुर,
करत फिरत बौराई।1।

कबहुँ जोगरत, भेाग-निरत, सठ
हठ बियोग -बस होई।
कबहुँ मोहबस द्रोह करत बहु,
कबहुँ दया अति सोई।2।

कबहुँ दीन, मतिहीन, रंकतर ,
कबहुँ भूप अभिमानी।
कबहुँ मूढ़, पंडित बिडंबरत,
कबहुँ धर्मरत ग्यानी।ं3 ।

कबहुँ देव! ज्ग धनमय , रिपुमय
कबहुँ नारिमय भासै।
संसृति-संन्निपात दारून दुख
बिनु हरि-कृपा न नासै।4।

संजम, जप, तप, नेम, धरम, ब्रत
बहु भेषज -समुदाई।
 तुलसिदास भव-रोग रामपद
-प्रेम-हीन नहिं जाई।5।
 
(82),

मोहजनित मल लाग बिबिध बिधि कोटिहु जतन न जाई।
 जनम जनम अभ्यास -निरत चित, अधिक अधिक लपटाई।1।

नयन मलिन परनारि निरखि, मन मलिन बिषय सँग लागे।
हृदय मलिन बासना-मान-मद, जीव सहज सुख त्यागे।2।

परनिंदा सुनि श्रवन मलिन भे, बचन दोष पर गाये।
सब प्रकार मलभार लाग निज नाथ- चरन बिसराये।3।

  तुलसिदास ब्रत-दान, ग्यान-तप, सुद्धिहेतु श्रुति गावै।
 राम-चरन-अनुराग-नीर बिनु मल अति नास न पावै।4।