भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस तरह कर गया दिल को मेरे वीराँ कोई / चराग़ हसन हसरत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस तरह कर गया दिल को मेरे वीराँ कोई
न तमन्ना कोई बाक़ी है न अरमाँ कोई

हर कली में है तेरे हुस्न-ए-दिल-आरा की नुमूद
अब के दामन ही बचेगा न गिरेबाँ कोई

मय-चकाँ लब नज़र आवारा निगाहें गुस्ताख़
यूँ मेरे पहलू से उट्ठा है ग़ज़ल-ख़्वाँ कोई

ज़ुल्फ़ बरहम है दिल आशुफ़्ता सबा आवारा
ख़्वाब-ए-हस्ती सा नहीं ख़्वाब परेशाँ कोई

नग़मा-ए-दर्द से हो जाता है आलम मामूर
इस तरह छेड़ता है तार-ए-रग-ए-जाँ कोई