भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ आबला-पा और भी रफ़्तार ज़रा तेज़ / नामी अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ आबला-पा और भी रफ़्तार ज़रा तेज़
इस दश्त-ए-पुर-असरार में चलती है हवा तेज़

आसार तो कुछ ऐसे ख़तरनाक नहीं थे
क्या जानिए किस तरह ये तूफ़ान हुआ तेज़

कुछ अब्र ओ हवा बर्क़ ओ शरर से नहीं मतलब
इस दौर-ए-पुर-आशोब में हर शय है सिवा तेज़

क्या मौज-ए-सुख़न क्या नफ़स-ए-साएक़ा-परवर
बस ये है कि हो जाती है आवाज़-ए-अना तेज़

उठते हैं सर-ए-राह जहाँ ज़र्द बगूले
होता है वहीं रक़्स-ए-जुनूँ और सिवा तेज़

शायद कि रग-ए-जाँ में लहू ज़िंदा है अब तक
अक्सर दर-ए-ज़िंदाँ से उभरती है सदा तेज़

तक़्दीर-ए-मोहब्बत भी बदल जाएगी ‘नामी’
उन हाथों पे हो जाए ज़रा रंग-ए-हिना तेज़