भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुद आज़मा के भी दावे अजल के देखते हैं / नामी अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुद आज़मा के भी दावे अजल के देखते हैं
दयार-ए-शौक में इस बार चल कर देखते है

पिघलती है कि नहीं बर्फ़-ए-ना-शनासाई
किसी की गर्म-निगाही से जल के देखते हैं

ये दश्त-ए-हू सर-ए-गुलशन कहाँ से आ निकला
ये मोजज़ा है तो घर से निकल के देखते हैं

जिन्हें मिली ही नहीं चश्म ओ दिल की बीनाई
तमाशे वो भी ख़ुमार-ए-अज़ल के देखते हैं

उसी के ज़िक्र से महफ़िल में फूल खिलते थे
वो आ गया है तो सब आँख मल के देखते हैं

किसी को आज के हालात पर क़रार नहीं
हमारे शहर में सब ख़्वाब कल के देखते हैं

अभी तो लम्स-ए-बदन का हिसाब बाक़ी है
तअल्लुक़ात के पहलू बदल के देखते हैं

न कोई नारा-ए-तहसीं-नुमा न दाद-ए-सुख़न
कि सुनने वाले भी तेवर ग़ज़ल के देखते हैं

न जाने कब सर-ए-आईना ख़ौफ़ लिख जाए
हम अपना चेहरा भी ‘नामी’ सँभल के देखते हैं