भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टर्मिनस / अनंत कुमार पाषाण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो तेज रेलगाडियों की तरह
हम एक-दूसरे के पास से गुजर गए,
एक की लम्बाई से दूसरे की लम्बाई नप गई।

छूट गए पटरी-से जीवन के सारे क्रम,
तब तक तो दोनों ने कितने ही स्टेशन,
गांव, खेत पार किए,
और विपरीत दिशाओं में
दूर-दूर बढ गए...
दोष तीव्र गति का है,
वेग की मर्यादा होनी चाहिए,
नहीं तो इसी तरह दुरियां बढती हैं,
फासले जितने ही तय करो
उतने ही बढते हैं।

कहीं कोई टर्मिनस शायद ऐसा भी हो,
जहां रेलगाडियां
सभी रुक जाती हैं।