भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रिश्ते सीढ़ी हुए पतवार हुए / मुकुल सरल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रिश्ते सीढ़ी हुए पतवार हुए
जबसे हम लोग समझदार हुए

सेज के फूल थे जो कल शब में
वो सहर में नज़र के ख़ार हुए

किसी भँवर में उतर गए हम तुम
लग रहा था कि अबके पार हुए

हम तो निकले थे बदलने दुनिया
अपने ही घर में शर्मसार हुए

इतने उलझे मेरे सभी रिश्ते
बैठा सुलझाने तार-तार हुए