भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज भी आकाश पर / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:15, 17 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=समीर बरन नन्दी |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem> जितनो के सिर …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितनो के सिर जितने तारे जुटते हैं
उनके उतने ही होते है पुरखे

विस्थापन में उखड़े
हम जैसों के भटक गए है पुरखे

चमकीली पोलोथिन ओढ़े
आकाश में निहुर.... निहुर .....

सारी रात सारा आकाश
धरती पर हमें पुकार लगाता है ।