भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संभ्रम अति उर मैं बढ़्यौ / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
Himanshu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:40, 28 जून 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोहा
(भ्रमरावली के गुंजार से संभ्रम-निवारण का वर्णन)

संभ्रम अति उर मैं बढ़्यौ, रह्यौ नहीं कछु ग्यान ।
मधुकरीन-मुख ता समै, परयौ सबद यह कान ॥६॥