भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हौंन लागे सोर चहुँ ओर प्रति कुंजन मैं / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
Himanshu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:49, 29 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=द्विज }}{{KKAnthologyBasant}} {{KKPageNavigation |पीछे=चँहकि चकोर उठे, सोर …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनहरन घनाक्षरी

हौंन लागे सोर चहुँ ओर प्रति कुंजन मैं, त्यौंहीं पुंज-पुंजन पराग नभ छाइगौ ।
फूल-फल साजत कौं आयसु बिपिन माँहिं, सीतल-सुगंध मंद-पौंन पहुँचाइ गौ ॥
’द्विजदेव’ भूले-भूले फिरत मलिंदन की, सुषमा बिलोकि हिएं सुख सरसाइ गौ ।
आए हुते आगे तैं हरौलन के गोल इत, आवत हमारे उत ’ऋतुपति’ आइ गौ ॥१६॥