भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर कोई ख़ालिश-ए-जाविदाँ सलामत है / 'महताब' हैदर नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर कोई ख़ालिश-ए-जाविदाँ सलामत है
तो फि जहाँ में ये तर्ज-ए-फुगाँ सलामत है

अभी तो बिछड़े हुए लोग याद आयेंगे
अभी तो दर्द-ए-दिल-ए-रायगां सलामत है

अगरचे इसके न होने से कुछ नहीं होता
हमारे सर पे अगर आसमाँ सलामत है

हमारे सीने का ये ज़ख़्म भर गया ही तो क्या
अदू के तीर अदू की कमाँ सलामत है

जहाँ में रंज-ए-सफ़र हम भी खींचते हैं
जो गुम हुआ है वही करवाँ सलामत है