भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचल अमल अज अनघ अचर / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग मारू-ताल धमार)

अचल अमल अज अनघ अचर-चर अजगव-धर हर।
 अकल सकल खल-दमन शमन-यम-भय शशधर-धर॥
 अखय अटल तन विमल अतन गणधर अजगर-धर।
 भव-भय-हर अघ-हरण अभय-कर भज भव हर-हर॥