भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुसयना नायिका बरनन / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कान्ह चले बन को तब बाल को सास ने काज कहे घर ही के।
बेगही बेग तिन्हैं करिके जब जान लगी मिस कै ढिग पी के।
ताछन आइ गए रसलीन गहे जिव में अभिलाख जो जी के।
लाल लखें सुख होत है त्यों लखि लाल को आन भयो दुख ती के॥44॥