भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अनुसयना नायिका बरनन / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कान्ह चले बन को तब बाल को सास ने काज कहे घर ही के।
बेगही बेग तिन्हैं करिके जब जान लगी मिस कै ढिग पी के।
ताछन आइ गए रसलीन गहे जिव में अभिलाख जो जी के।
लाल लखें सुख होत है त्यों लखि लाल को आन भयो दुख ती के॥44॥