भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अमर जोति / हरि दिलगीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुंहिंजे दुख ते दुखु न करे को,
दुख जो दीपकु आहियां आउं
जलंदो रहंदुसि रात सॼी-
हिन जीवन जी लंबी रात

तोड़े सड़ंदो-बरंदो रहंदुसि,
भुलिजी भी उफ़् कोन कंदुसि।

मूं खे कल आ, हिन दीपक में,
जाति अमर हिक जरके पेई,
हिन मां रोशन रोशन थींदा,
दिल-दिल जा ऊंदाहा घरिड़ा,
हिन मां रोशन रोशन थींदा,
जॻ में ॿिया बि घणेई दीपक।

हिक मां थींदाा दीपक ॿिया भी,
दीप दीप में जोति अमर आ,
जंहिं मां ही जॻु जरिकी पवंदो।

हीउ दुखु जोतिमय आ प्यारा,
जलंदो तंहिं में भलि त रहां मां।
मुंहिंजे दुख ते दुखु न करे को,
आउं त आहियां बेहद खु़श।