भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँखों आ़खो में मुहब्बत की नुमाईश की है / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों आँखों में मुहब्बत की नुमाइश की है।
आज मैंने अपने दिल की आजमाइश की है।

शम्मा-ए-उल्फ़त जलाकर निगाहे-मुंतज़िर ने,
सफ़रे-मुहब्बत में चलने की फर्माइश की है।

कहीं नज़र ना लगे मेरे चाँद से महबूब को,
अक़ीदत से दरीचों पर पैरहन-आराइश की है।

परवरदिगार उसे हर अज़ाब से महफ़ूज़ रखे,
ख़ानमाँ-ख़राब नें अमीरों से मुबाहिश की है।

ख़ुदा ख़ैर करे इस नादान को हिम्मत बख़्शे,
एक परिंदे ने आफ़ताब की ख़्वाहिश की है।