भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगतपतिका / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगमही सुनि मनभावन को धन मन चायन चोप चढ़ै।
जिय के हुलास के प्रगटत खन खन (आनन) ओप बढ़ै॥
चुरियाँ करकत नैनहुँ तरकत अँगिअन जोबन रहत मढ़ै।
कंचन सो काया लसत ऐसी लसत मनो बिरह ते ताप कढ़ै॥54॥