भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदिदेव, आदित्य, दिवाकर / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग सिंदूरा-ताल मूल)

आदिदेव, आदित्य, दिवाकर, विभु, तमिस्रहर।
 तपन, भानु, भास्कर, ज्योतिर्मय, विष्णु, विभाकर॥
 शंख-चक्रञ्धर, रत्नहार-केञ्यूर-मुकुटधर।
 लोकचक्षु, लोकेश, दुःख-दारिद्र्‌य-कष्टस्न्हर॥
 सविता देव अनादि सृष्टि जीवन पालनपर।
 पाप-तापहर, मंगलकर, मंगल-विग्रह-वर॥
 महातेज, मार्तण्ड, मनोहर, महारोगहर।
 जयति सूर्य नारायण, जय जय सर्व सुखाकर॥