भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवत सुभाष रात सपने में देखी ‘नाथ’ / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवत सुभाष रात सपने में देखी ‘नाथ’।
संग चालीस लक्ष्य सैन बलवान है॥
जल चर, थल चर, यान हूँ अनेकन हैं।
टैंक, लौरी, कारन में भारी सामान है॥
भारत आजाद हेत, आयौ द्वार भारत के।
क्राँतिकारी नेता याकौ जानत जहान है॥
‘माँत जय भारत की’ बोल रहे चारों ओर।
शोर भयौ भारी साथ नाजी ना जापान हैं॥