भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनका तो ये मज़ाक रहा हर किसी के साथ / राम प्रसाद शर्मा "महर्षि"

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज




उनका तो ये मज़ाक रहा हर किसी के साथ
खेले नहीं वो सिर्फ़ मिरी ज़िंदगी के साथ

आज़ाद हो गये हैं वो इतने, कि बज़्म में
आए किसी के साथ, गए हैं किसी के साथ

अपनों की क्या कमी थी कोई अपने देश में
परदेस जा बसे जो किसी अजनबी के साथ

फिरते रहे वो दिल में ग़लतफ़हमियाँ लिये
ये भी सितम हुआ है मिरी दोस्ती के साथ

'महरिष' वो हमसे राह में अक्सर मिले तो हैं
ये और बात है कि मिले बेरुख़ी के साथ.