भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ इश्क़, न छेड़ आ-आ के हमें / 'अख्तर' शीरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ इश्क़, न छेड़ आ-आ के हमें
हम भूले हुओं को याद न कर
पहले ही बहुत नाशाद[1] हैं हम
तू और हमें नाशाद न कर
क़िस्मत का सितम ही कम नहीं कुछ
ये ताज़ा सितम ईजाद न कर

यूँ ज़ुल्म न कर बेदाद[2] न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।
 
जिस दिन से मिले हैं दोनों का
सब चैन गया आराम गया
चेहरों से बहार-ए-सुब्ह गई
आँखों से फ़रोग़-ए-शाम[3] गया
हाथों से ख़ुशी का जाम छुटा
होंटों से हँसी का नाम गया

ग़मगीं न बना नाशाद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

हम रातों को उठ कर रोते हैं
रो-रो के दुआएँ करते हैं
आँखों में तसव्वुर[4] दिल में ख़लिश[5]
सर धुनते हैं, आहें भरते हैं
ऐ इश्क़, ये कैसा रोग लगा
जीते हैं न ज़ालिम मरते हैं

ये ज़ुल्म तू ऐ जल्लाद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

ये रोग लगा है जब से हमें
रँजीदा[6] हूँ मैं बीमार है वो
हर वक़्त तपिश हर वक़्त ख़लिश
बे-ख़्वाब हूँ मैं बेदार है वो
जीने पे इधर बेज़ार[7] हूँ मैं
मरने पे उधर तयार है वो

और ज़ब्त[8] कहे फ़रियाद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

जिस दिन से बँधा है ध्यान तिरा
घबराए हुए से रहते हैं
हर वक़्त तसव्वुर कर-कर के
शरमाए हुए से रहते हैं
कुम्हलाए हुए फूलों की तरह
कुम्हलाए हुए से रहते हैं
 
पामाल[9] न कर बर्बाद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

बेदर्द ! ज़रा इनसाफ़ तो कर
इस उम्र में और मग़्मूम[10] है वो
फूलों की तरह नाज़ुक है अभी
तारों की तरह मासूम है वो
ये हुस्न सितम ! ये रंज ग़ज़ब !
मजबूर हूँ मैं, मज़लूम[11] है वो

मज़लूम पे यूँ बे-दाद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

ऐ इश्क़, ख़ुदारा[12] देख कहीं
वो शोख़-ए-हज़ीं[13] बदनाम न हो
वो माह-लक़ा[14] बदनाम न हो
वो ज़ोहरा-जबीं[15] बदनाम न हो
नामूस का उस के पास रहे
वो पर्दानशीं बदनाम न हो
 
उस पर्दानशीं को याद न कर
ऐ इश्क़, हमें बर्बाद न कर ।

शब्दार्थ
  1. दुखी
  2. ज़ुल्म
  3. शाम की रौनक
  4. कल्पना
  5. फ़िक्र
  6. सन्तप्त
  7. थके हुए
  8. आत्म-नियन्त्रण
  9. पैरों से कुचलना
  10. दुखी
  11. उत्पीड़ित
  12. ईश्वर के लिए
  13. हास्यास्पद दुख
  14. चन्द्रमुखी
  15. सौन्दर्य और प्रेम की देवी