भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुफ्र हुआ, कुछ न हुआ / वाज़दा ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख्वाहिशों का विलाप हुआ
कुफ्र हुआ
और कुछ न हुआ
बादल फटा पानी गिरा आसमान से
दरक दरक कर
चट्टानें टकराती बिखरती रहीं
और कुछ न हुआ
उसने जेब से अपना हाथ
निकाल क्षितिज पर उगे
इन्द्रधनुष को अचानक छू लिया
एक मुट्ठी रंग उसकी हथेलियों में आए
और कुछ न हुआ
जिस्मों का धीरे धीरे बुत में
तब्दील होते जाना / नब्जों का सुन्न होना
और कुछ न हुआ
सूखे पत्तों को समेटकर
दामन में भर लिया
आग लगी और कुछ न हुआ.