भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यूँ इतना हैरान दिखाई देता है / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यूँ इतना हैरान दिखाई देता है ।
जंगल-सा वीरान दिखाई देता है ।

उसने रोज़ा आज रख लिया है शायद,
नीयत में रमजान दिखाई देता है ।

जाने क्यूँ कर इतना मुश्किल हो जाता,
जीना जब आसान दिखाई देता है ।

रिश्तों की गहराई शायद नाप चुका,
घर में जो मेहमान दिखाई देता है ।

ख़्वाबों में हर रोज़ कश्तियाँ दिखती हैं,
क़िस्मत में तूफ़ान दिखाई देता है ।

उलझन, आँसू, रुसवाई और मयखाना,
जीने का सामान दिखाई देता है ।

वही समझ सकता है मेरी ग़ज़लों को,
जो ख़ुद से अन्जान दिखाई देता है ।