भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गरियाबंद / संजीव बख़्शी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरियाबंद के
तहसील आफ़िस वाले
शिवमंदिर में
ट्रेज़री का बड़ा बाबू
बिना नागा
प्रतिदिन एक दिया
जलाया करता

मेरी स्मृतियों में
वह हमेशा
वहाँ दिया जलाता रहेगा
चाहे आँधी हो या तूफ़ान ।

मेरी स्मृतियों में वह
बड़ा बाबू
कभी सेवानिवृत्त नहीं होगा।