भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जय जय, अव्यय / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(दोहा)

बहन करो तुम शीलवश, निज जनको सब भार।
 गनौ न अघ, अघ-जाति कछु, सब विधि करौ सँभार॥-१॥
 तुहरो शील-स्वभाव लखि, जो न शरण तव होय।
 तेहि सम कुञ्टिल-कुञ्बुद्धि जन, नहिं कुञ्भाग्य जन कोय॥-२॥
 दीन-हीन अति मलिन मति, मैं अघ ओघ अपार।
 कृञ्पा-‌अनल प्रकटौ तुरत, करौ पाप सब छार॥-३॥
 कृञ्पा-सुधा बरसाय पुनि, शीतल करौ पवित्र।
 राखौ पदकमलनि सदा, हे कुञ्पात्रके मित्र !॥-४॥