भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीत कें चुनाव काँग्रेसी गंरवाय गये / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीत कें चुनाव काँग्रेसी गंरवाय गये।
कुनवा परस्ती कर धन को कमाते हैं॥
शान्ति औं अहिंसा का दंभ करते जो ‘नाथ’।
वो ही साम्यवाद कल्प वृक्ष को लगाते हैं॥
काश्मीर अजहू समस्या हल भई नांहि।
राष्ट्र संघ मांहि टांग जाकर अड़ाते हैं॥
मध्य वर्ग पिसौ जाय आज या भारत में।
मोहन की याद कर कर के पछताते हैं॥