भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोरी-तोरी नोह से तमाँकू तरहत पर / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोरी-तोरी नोह से तमाँकू तरहत पर
ताली दे रगैर तिसमार जे बनै छै
बर-बर, बर बोलै बात बिन वजह के
बे बहियात के बिवाद के जनै छै
पढ़ना पहाड़, पर द्वार पर परलो
पिच-पिच करि, पर दोष के गनै छै
भनत विजेता ई तमाँकू आरो चून लेली
हाथ के पसारी स्वभिमान के हनै छै