भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परकीया को मान / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाहि के सनेह नीके नेह तोरि नैहर को,
हेत सब सखिन को प्रानन तें छोलिए।
जाहि के सनेह ग्यान गुन को न ध्यान कीजे,
गर्व रूप जोबन को तिलहू न तोलिए।
जाहि के सनेह लाज छांड़ि कुल लोकन की,
छांह की सी रीति नित संग लागी डोलिए।
आली तजि मोहि मन औरै कोई नारि मोहि ,
ऐसो निरमोही सों कबहूँ नहि बोलिए॥40॥