भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाँखुरी लै साजी सेज सेवती की बेलिन / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनहरन घनाक्षरी
(ऋतुराज के आगमन से सहचरों को अतिशय आनंद की प्राप्ति का वर्णन)

पाँखुरी लै साजी सेज सेवती की बेलिन, चमेलिन हूँ सरस बितान-छबि छाई है ।
फैल्यौ चहूँ गहब-गुलाबन कौ गंध धूरि, धूँधरित सुरभि-समीर सुखदाई है ॥
चारयौं ओर कोकिल-चकोर-मोर-सोरन सौं, और छिति छोरन अनंद अधिकाई है ।
आज ’ऋतुराज’ के समागम के काज होत, धाम-धाम बेलिन कैं आनँद-बधाई है ॥२९॥