भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रौढ़ा बरनन / रसलीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहत सदा ही देखो तुअ मुख चंद ही को,
भरे अनुराग सों चकोर सम आँखिए।
बिन देखे लीलत अगार बिरहानल के,
चंद्रिका सी जोति बिधि आनन की चाखिए।
थाते मते कहां जौ सुजान तुम्हैं जान अब,
आइए जो मन कछू सोई अब भाखिए।
ऐसोई उपाय कीजै आवन न भानु दीजे,
दिन दाबि दूबि लीजे रैन गये राखिए॥32॥