भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ा रंग लाया हैमेरा ग़ज़ल लिखना भी / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ा रंग लाया है आज मेरा ग़ज़ल लिखना भी।
महबूब के चेहरे को गुलाब कवँल लिखना भी।
 
आरिंद को गुलिस्ताँ अब्सारों को दरिया लिखना,
उसके गेसू-ए-शबगूँ को घना बादल लिखना भी।
 
शक्ल-ए-ज़मील को जेबाई-ए-महबाब लिखना,
उसे ख़ुदा ख़ुद को उसका कायल लिखना भी।
 
सादिक गुलबदन खुशरवे-शीरीदहना लिखना,
ख़ुद ग़फ़लत-शिआर उसे अव्वल लिखना भी।
 
गोशा-गोशा मेरे आशियाँ का महका जाता है,
ख़ुश्बू-ए-जिस्मे-नाजनीं को संदल लिखना भी।
 
इब्तिशाम अता करता है मेरे अह्दे-हिज़्र को,
दिले-बेक़रार को खुशियों का महल लिखना भी।
 
नादाँ नाकर्दकार को सुकूने-कल्ब देता है 'कबीर' ,
ख़्वाबे-परीशाँ को बारहाँ मुकम्मल लिखना भी।