भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुलाई / वाज़दा ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंतर्मन में रुलाई
गोलाई में उमड़ती घुमड़ती है
इत्तेफाक है चाँद भी गोल है
पृथ्वी भी और बाकी सभी ग्रह भी
बनाती हूँ रास्ता उन्हीं ग्रहों के बीच
रुलाइयों को बहने के लिए
बहता बहता रुदन अपने दीवानेपन के साथ
शायद ख्याल पा जाए तुम्हारे मन में
कोई जिंदा तहरीर बने।