भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसन्त विभ्रम / केशव शरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेतों में
खिली सरसों है
या हवा में लहराता पीला पल्लू ?
देखूँ भी तो क्या देखूँ ?
मेरी पलकों पर छाया तो वही है हर सू !

सुनूँ भी तो क्या सुनूँ ?
सुनूँ बस अपनी ही साँसों का सरगम
जबकि सरसरा रहे होते हैं
सरसों के फूल
हवा में मद्धम-मद्धम

समझूँ भी तो क्या समझूँ ?
कल्पना में ही होकर रह जाएगा मिलन हमारा
या मिलेंगे हम वास्तविकता में
इस बार
इस वासंतिक वाटिका में