भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हड़ताल / रामदेव भावुक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एगो हाथ माथ पर मैयो, दोसर हाथ गाल पर छौ
हमरा तऽ लागै छौ लच्छन, बाबू फेर हड़ताल पर छौ

हक-हिस्सा मांगै के चलते, सरकार से सीधे टक्कर भेल
हड़ताले के कारण मैयो, बाबू हम्मर फक्कर भेल

ऐ देाक जनता के जिनगी, हरदम कट्टल डाल पर छौ

लड़ते-लड़ते ड़ै के सब टा ढं़गो बाबू सीख गेलौ
माँगै से नै भीख मिलै छै, हक पर मरै लेॅ सीख गेलौ

ई नाव तॅ बुड़बे करतौ, अन्हड़ मे जे पाल पर छौ

ओकरा काबू मे बाबू नै छै, छै ओ बाबू के काबू मे
पासा पलटि देतै पल भर मे, छै ऐसन ताकत बाबू मे

चक्का अगला पंचर दूनू, पिछला दूनू टाल पर छौ