भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँखफोड़ भइला पर / वीरेन्द्र नारायण पाण्डेय

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:34, 7 सितम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वीरेन्द्र नारायण पाण्डेय |अनुवा...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँधी-झकोर से उजड़ गइल खोंता
भुँइयाँ गिर के लोटत-छटपटात
चेंव-चेंव करत गेदन के
अँखफोड़ ना भइला आ पाँख ना जमला से
ना उड़ पावे के रहे लाचारी
आँधी थम्हते
बिलार के कौर बने के पहिले
चिड़ई पहुँचावे लागल चोंच में दबा के
गेदन के पतइन के अलोता
घास-पात जुटावे में अझुराइल चिड़ई
भुला गइल आँधी-झकोर के दुख-दरद
नया बनल खोंता में गेदन के चहकत-फुदकत देख
जुड़ा गइल चिड़ई के करेजा
बहेलिया से बचत ऊ लाग गइल दाना के जोगाड़ में
अँखफोड़ भइला आ पाँख जमला पर
गेदन के मिल गइल उड़े के खुलल आसमान
छूट गइल बिलार के कौर बने के डर।