भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आईने में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:23, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे जैसा एक और
मुन्ना बैठा आईने में।
मम्मी उसको भी कहती-
‘राजा बेटा’ आईने में।

मेरे संग वह खाता-पीता
मेरे ही संग सोता है,
हँसूँ अगर तो वह भी हँसता
रोऊँ तो वह रोता है,
पप्पी के बदले में पप्पी
वह देता आईने में।

मुँह बिचकाऊँ उसे देख तो
वह भी मुँह बिचकाता है,
डाँटूँ अगर कभी उसको तो
वह भी डाँट पिलाता है,
ऐसा बड़ा नकलची अब तक
न देखा आईने में।