भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस चुनाव में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:30, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस चुनाव में
काम कोई तरकीब न आएगी।
बच्चा पार्टी जिसको चाहे
उसे जिताएगी।

बाग लगाएगा जो
अच्छे खेल खिलाएगा।
भारी बस्तों का बोझा
जो कम करवाएगा।
उसका ही झंडा
सबसे ऊँचा लहराएगा।
बाकी लोगों की तो
केवल शामत आएगी।
बच्चा पार्टी जिसको चाहे
उसे जिताएगी।

स्कूलों में भला-भला-सा
ज्ञान न जो देगां
जीवन में सुख और
शांति का दान न जो देगा।
बच्चों को उनका पूरा
सम्मान न जो देगा
उसे देश की सत्ता
अब न सौंपी जाएगी।
बच्चा पार्टी जिसको चाहे
उसे जिताएगी।