भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक आग का गोला / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:55, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजब-अनोखा सर्कस देखा,
अजब अनोखा सर्कस!

सूँड़ उठाकर हाथी राजा ने दी खूब सलामी,
शेराज फिर लेकर आए एक छाता बादामी।
इक पहिए की साइकिल लेकर दौड़ा सरपट भालू,
बनमानुष ने लपके सारे आलू और कचालू।

एक आग का गोला, कूदा उसमें से एक जोकर,
हाथ बढ़ाकर रोकी उसने झट से चलती मोटर।
सात रंग का जादू बिखरा जब छूटीं फुलझड़ियाँ,
बंदर ने चतुराई से खोलीं दो-दो हथकड़ियाँ।

‘वाह-वाह, क्या कहने!’ बोले ताली दे-दे मुन्ना,
जब भालू ने तीर चलाए लिए धनुष औ’ तरकस!