भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कर मजरोॅ / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:23, 27 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नवीन ठाकुर 'संधि' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक टा छै छोटोॅ हमरोॅ बुतरू,
खिलौना देवोॅ लानी केॅ तुतरू

खोजै छै दादा-बाबा,
मतुर छेॅ तोहें कत्तेॅ अभागा।
तोरोॅ जनमोॅ रोॅ पहिलेॅ मरलोॅ
तोरा छोड़ी सभ्भेॅ तोरोॅ दुनियां सें गेलोॅ
च्ूाप रहोॅ बेटा तोहें घुटरू,
एक टा छै छोटोॅ हमरोॅ बुतरू

देखै में कत्तेॅ छेॅ सुन्नर,
होतौं तोरा में कत्ते हुनर।
कानै छें खाय लेॅ मूढ़ी-घुघनी,
मतुर देवोॅ कहाँ सें लानी अखनी।
‘‘संधि’’ मन कहै देवोॅ शहद चुरू,
एक-टा-छै-छोटोॅ हमरोॅ बुतरू