भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुंडलियाँ / रमेशकुमार सिंह चौहान

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:58, 7 अगस्त 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.
करय काम बनिहार हा, पसीना चूचवाय।
अपन पेट ला वो भरय, दू पइसा म भुलाय।।
दू पइसा म भुलाय, अपन घर म खुश रहय रे।
जग के चिंता छोड़, जगे बर वो जीयय रे।।
कइसे कहय ‘रमेश‘, रोज जीयय अऊ मरय।
बिसार खुद के काम, रोज तोरे काम करय।।

2.
जीये बर जरूरी हवय, हमन ला तीन बात।
मुड़ मा होवय छांव गा, मिलय पेट भर भात।।
मिलय पेट भर भात, बदन मा होवय कपड़ा।
पति पत्नि संग होय, रूढ़े मनाय के लफड़ा।।
संगी मन के प्यार, सबो दुख ल लेथे पिये।
ददा दाई के दुलार, देख हमरे बर जीये।।

3.
आसो करवा दे बबा, मोरो तै ग बिहाव।
कानी खोरी कइसनो, खोजे बर तो जाव।।
खोजे बर तो जाव, डहत हे मोर जुवानी।
कइसे बबा सुनाव, अपन मै तोला कहानी।।
हासय संगी मोर, तुहू मन मोला हासो।
फेर कइसनो होय, करा दव बिहाव आसो।।