Last modified on 31 अक्टूबर 2009, at 18:09

चांद / अग्निशेखर

Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:09, 31 अक्टूबर 2009 का अवतरण

बादलों के पीछे
क़ैद है चांद
अंधेरे में डुबकी मार कर
                  आए हैं दिन

खुली खिड़कियाँ कर रही हैं
बादलों के हटने का इन्तज़ार

उमस में स्थगित हैं
लोगों के त्यौहार