भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोड़ेंगे न हम तेरा साथ ओ साथी मरते दम तक / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:59, 27 अगस्त 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रविन्द्र जैन |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोड़ेंगे न हम तेरा साथ ओ साथी मरते दम तक
मरते दम तक नहीं अगले जनम तक
अगले जनम नहीं सात जनम तक
सात जनम नहीं जनम जनम तक
छोड़ेंगे न हम ...

तेरी ही तस्वीर सजी है दिल के आईने में
तुझसे मोहब्बत कर के लज्जत पा ही गए जीने में
देता है खुशियां अब तेरा ग़म तक
पड़ने न देंगे ग़म के कदम तक
कदम रखेंगे संग जनम जनम तक
छोड़ेंगे न हम ...

कोई ढूंढे अपने को कोई अपने सनम को
अपना ख़ुदा भी अपना सनम भी मिल गया तुझसे हमको
कर लिए वादे खाई कसम तक
खाई कसम दिल के संगम तक
संगम होगा जनम जनम तक
छोड़ेंगे न हम ...

मौसम आते जाते रहेंगे सावन फागुन लाते रहेंगे
प्यार भरे दिल प्यार के नग़में
इस मौसम से उस मौसम तक
इस आलम से उस आलम तक
दूर न होंगे जनम जनम तक
छोड़ेंगे न हम ...