भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जब रूह-ए-अवाम लुटेंगी / नीना कुमार

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:47, 12 अगस्त 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब रूह-ए-अवाम लुटेंगी
जब क़फ़स में साँसें घुटेंगी
और सब्र के बाँध टूटेंगे
हाँ तब आवाजें उठेंगी

जब दरीचे-लब खुलेंगें
औ हवा में नगमे घुलेंगें
जब इक सैलाब आएगा
तब दाग-ए-ज़ुल्म धुलेंगें

दरया का ख़ाक में मिलना
दरख़्त, दीवार का हिलना
देखेंगे के इसके बाद देखेंगे
फिर से बहार का खिलना