भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौ हर नाम-नाम बिन जाने / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:06, 28 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संत जूड़ीराम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जौ हर नाम-नाम बिन जाने।
फिरत निहाल दहू दिस व्याकुल कर्म कीच गति साने।
विन विवेक मत भई बावरी जागत रैन विहाने।
राचो रंग सहस माया के सुक सपने में साने।
जैसे स्वान काँच वपु निरखे समझ और पहचाने।
भूलो आय आप के मांही फिर-फिर मत अरुझाने।
पड़त गुनत गुन कर्म बखाने हेरत जगत हिराने।
जूड़ीराम नाम बिन चीने काल के हाथ बिकाने।