भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दस हाइकू / भंवरलाल ‘भ्रमर’

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:44, 30 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: <poem>(1) सुख-सांपत मिरग तिरसणा जण-जण री (2) सदां ई हुवै चावळ-दाळ भेळा जुद…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(1)
सुख-सांपत
मिरग तिरसणा
जण-जण री

(2)
सदां ई हुवै
चावळ-दाळ भेळा
जुदा-कोकळा

(3)
नीं पड़ै आभो
आपरी ऊंची टांगां
सांभै, टींटोड़ी

(4)
सबद-काया
कलम री कोख सूं
झरतो इमीं

(5)
सांमै अंधारो
सूरज मांगै वोट
भोर खातर

(6)
काळी बादळी
आकास-बरगद
बूंदां रो आळो

(7)
जिकां नै चाया
जी सूं बेसी, बां ईज
बताया भूंडा

 (8)
गावै बधावो
आयां, भोर-भायली
चिड़ी-कागला

(9)
सूरज-धरा
रमै लुकमीचणी
बादळी आयां

 (10)
पड़गी भींतां
ईसकै री लाय में
भायां बिचाळै