भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवार / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:27, 8 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रंजना जायसवाल |अनुवादक= |संग्रह=ज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोनी लगी दीवार
थम्बे-थूनियों के सहारे
कब तक टिकी रहेंगी?
कब तक रोक सकेंगे हम
इस भय से
कि हमारा आँगन नंगा हो जायेगा
और सब कुछ सबके सामने आ जायेगा
जब-
एक दिन इस दीवार को
गिरना ही है।
तो-
इसके पहले
कि यह अकस्मात गिरकर
घायल कर जाए हमें
दृढ़ कर मन
एक बार ही गिरा दें
और नयी दीवार के
निर्माण में जुट जाएं।