भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो / भजन

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:12, 17 अप्रैल 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पायो जी मैने राम रतन धन पायो

वस्तु अमोलिक दी मेरे सत्गुरु
किरपा कर अपनायो - पायो जी मैने

जनम जनम की पुंजी पायी
जग मे साखोवायो - पायो जी मैने

खर्चे ने खूटे चोर न लूटे
दिन दिन बढत सवायो -पायो जी मैने

सत कि नाव केवाटिया सत्गुरु
भवसागर तर्वायो - पायो जी मैने

मीरा के प्रभु गिरधर नागर
हर्ष हर्ष जस गायो - पायो जी मैने