भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबा रे! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:36, 14 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> ग़...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़ुस्सा रहता हाथ भर।
मैडम जी की नाक पर।
बाबा रे! बाबा रे!

चश्मे से हैं देखतीं
सबके कान उमेठतीं,
चुप कर देतीं डाँट कर।
बाबा रे! बाबा रे!

हर दिन उनकी क्लास में--
जाना पड़ता है हमें,
पूरा ‘लेसन’ याद कर।
बाबा रे! बाबा रे!