भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटा-मांय तिलक गिनैलकै बेदर्दी / सुरेन्द्र प्रसाद यादव

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:27, 26 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुरेन्द्र प्रसाद यादव |अनुवादक= |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटा-मांय तिलक गिनैलकै बेदर्दी
पैसा गिनैलकै ना हाय राम गिनैये लेलकै ना
हाय राम टोला पड़ोसा केॅ भोज भात नहियें
जरियो खिलैलकै ना
मड़वा पूजा चौंकी चुमौनोॅ कुछुवो नै कैलकै ना
हाय राम कुछुवो नै कैलकै ना
हाय राम बेटा बापैं सेठे रं सबटा
टाका गिनैलकै ना
बिना बराती के पूत भेजी देलकै पैदले ना
रामा पैदले-पैदले ना
हाय राम माय केॅ अरमाने ई रहिये गेलै
मोड़ाकी लुंगा पिहनैं के अरमान रहिये गेलै ना
हाय राम रहिये गेलै ना
हाय राम नोटोॅ गिनैलकै तैहियो कारखी
लागिये गेलै ना
तिलकोॅ रोॅ पैसा गोछी राखलकै
कोठी तरोॅ में ना
रामा कोठी नरोॅ सें ना
हाय राम राते डकेतें
सब लूटी गेलै दुल्हो हँसोती ना